पापा ने ही मुझे जीना सिखाया

प्यार का सागर ले आते

फिर चाहे कुछ न कह पाते
बिन बोले ही समझ जाते

दुःख के हर कोने मेंखड़ा
उनको पहले से पाया

छोटी सी उंगली पकड़ कर
चलना उन्होंने सीखाया

जीवन के हर पहलु को
अपने अनुभव से बताया

हर उलझन को उन्होंने
अपना दुःख समझ सुलझाया

दूर रहकर भी हमेशा
प्यार उन्होंने हम पर बरसाया

एक छोटी सी आहट से
साया मेरा पहचाना

मेरी हर सिसकियों में
अपनी आँखों को भिगोया

मेरी हर हार से मुझे
जीतना सिखाया

आशिर्वाद उनका हमेशा हमने पाया

ऐसे पिता के प्यार सेबड़ा
कोई प्यार न पाया …

image

Yogesh Ojha

We are providing the best content out of the box.