खुदखुशी का खयाल छोड़ दो… And come back to Life ……

कितनी नज़ाकत से इंसान ज़मी पर आते है
कुछ पल सिर्फ खुशियां ही पाते है
फिर क्यूं ज़िंदगी मे ये अनचाहे मोड़ आते है
शायद इसी वजह से इंसान दुनिया से जाते है …

क्यूं जीवन के सागर में वक्त के तूफ़ान आते है
ज़िंदगी की कश्ती को जो तहस नहस कर जाते है
शायद कश्ती तो फ़िर बन जाती है
पर अपनो के साये फ़िर लौट कर नही आ पाते है …

कुछ लोग तुफानों से लड़कर सम्हल जाते है
और कुछ अपनो के बिछडने से टूट कर बिखर जाते है
ज़िंदगी से हार कर वो मौत को गले लगाते है
शायद इसी लिये इंसान इस दुनिया से जाते है………

This poem is specialy for those who thought once to opt for suicide …
Dont loose hope guys and come back to life ………

image

Yogesh Ojha

We are providing the best content out of the box.