प्यार का मीठा एहसास दिलाने लगा है तू...

प्यार का मीठा एहसास
दिलाने लगा है तू
मुझ को मुझ ही से
चुराने लगा है तू....

तेरी चाहतों का छाया है
सुरूर इस कदर
हर पल हर जगह
नज़र आने लगा है तू...

वीरान थी ये ज़िंदगी
तेरे आने से पहले
खुशियों के सपने मुझे
दिखाने लगा है तू....

हर पल मुझे होता है
बस तेरा ही एहसास
इस कदर मेरी सांसो में
समाने लगा है तू....

एक पल की भी दूरी
सह नहीं पाता
यूं आंख मिचौली खेल कर
क्यूँ मुझे आज़माने लगा है तू.....

तेरी यादों से ही अक्सर
होता है दिल खुश मेरा
घुल के लहू में
नस नस में समाने लगा है तू....

जाने कौन सी डोर है
जो खींच कर ले जाती है तेरी ओर
क्यूँ रूह में मेरी
समाने लगा है तू.....

बता क्या नाम दू मैं
इस दीवानगी को
बेचैन करके हर लम्हा मुझे
तङपाने लगा है तू...

तेरे ख्यालों से ही
महकने लगती है ज़िन्दगी
कुछ इस कदर मेरे दिल पर
छाने लगा है तू...

ये भोलापन
ये सादगी
और
तेरी मासूमियत
मुझे अब हर अदा से
सताने लगा है तू...

ज़िंदगी की राहों में
धूप में थी हर तरफ
अपने प्यार की बारिश को
बरसाने लगा है तू...

क्या इस बात का तुझे "एहसास "  है
ऐ जान
मेरे हर शेर
हर गज़ल में आने लगा है तू...

Yogesh Ojha

19 year old student, Yogesh S/O Late Mr. Shambhudayal Ojha is now an International Author with mass readership over 185 countries.. Being a national winner in sketching and story writing,Currently he is conducting his research across 20 countries for his upcoming novels.. A number of sad, romantic and emotional songs along with 10000 poems are the part of his creations. Also he is a motivational speaker and counsellor .. According to him " If you wanna be alive even after your death.. Either write something or do something which could be written "

No comments:

Post a Comment

Thank-you for your Support :)))))

Follow @ Instagram